दर्द-ऐ-दिल शायरी

 


की थी उनसे मोहब्बत पर जता ना सके ,

वो खफा थे इस कदर हमसे हम मना न सके ।

जलते रहे हम उनकी मोहब्बत की आग में,

वो देखते ही रहे हमेँ पर बुझा न सके

Ki thi unse mohabbat par jata na sake,

Vo khafa the is kadar hamse ham mana na sake,

Jalte rahe ham unki mohabbat ki aag me,

Vo dekhte hi rahe hamen par bujha na sake


मोहब्बत मिट गयी पर एहसास रह गया,

ख़ुशी इस बात की है कि कुछ तो पास रह गया ।।


Mohabbat mit gayi par ehasas rah gya,

Khushi is baat ki hai ki kuchh to paas rah gya .


इतनी चाहत के बाद भी तुझे एहसास ना हुआ,

जरा देख तो ले कहीं दिल की जगह पत्थर तो नहीं ।।


Itni chahat ke baad bhi tujhe ehasas na huaa,

Jara dekh to le kahin dil ki jagah patthar to nahin .


कबूल है जागना तेरी यादों में रात भर,

जो सुकून तेरे एहसासों में है वो नींद में कहाँ ।।


Kabool hai jagna teri yadon me raat bhar,

Jo sukoon tere ehasason me hai vo need me kahan .


अपने ही हालात का एहसास नहीं मुझको,

मैंने औरों से सुना है कि परेशान हूँ मैं ।।


Apne hi halaat ka ehasaas nahin mujhko,

Mene auron se suna hai ki pareshan hun main .


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!