एकलिंगजी मंदिर

एकलिंगजी मंदिर राजस्थान के उदयपुर जिले में स्थित है । यह मंदिर उदयपुर से 20 कि.मी. दूर कैलाशपुरी में दो पहाड़ियों के बीच स्थित है।आमतौर पर इस जगह को एकलिंगजी के नाम से जाना जाता है ।

एकलिंगजी मंदिर का संक्षिप्त विवरण

स्थान-कैलाशपुरी
तहसील-गिरवा
जिला-उदयपुर
राज्य-राजस्थान
निर्माण काल – 8वीं शताब्दी
निर्माण कर्ता –कालभोज/बप्पारावल
नजदीकी हवाई अड्डा- डबोक (उदयपुर)
उदयपुर से दूरी- 21 कि.मी.
डबोक से दूरी- 35 कि.मी.
दिल्ली से दूरी- 648 कि.मी.
गूगल मैप-https://maps.google.com/?cid=16477015357985375182

इतिहास

एकलिंगजी मेवाड़ के महाराणाओं के आराध्य देव रहे हैं । एकलिंगजी मंदिर का निर्माण गुहिल वंश (सिसोदिया वंश) के शासक कालभोज(बप्पारावल) ने 8वीं शताब्दी में करवाया था । मेवाड़ के सिसोदिया वंश के शासक एकलिंगजी को अपना राजा व खुद को उनका दीवान मानकर शासन करते थे ।

मंदिर के निर्माण के कुछ वर्षों बाद इसे तोड़ दिया गया था जिसका महाराणा मोकल (1421 ई.-1433 ई.) ने जीर्णोद्धार कराया । मंदिर के वर्तमान स्वरूप का श्रेय महाराणा रायमल (1473 ई.-1509 ई.) को है ।

एकलिंगजी मंदिर परिसर में कुल 108 मंदिर हैं जो संगमरमर व चूना पत्थर से बने हैं । मुख्य मंदिर में भगवान एकलिंगजी की चतुर्मुखी प्रतिमा है जो काले संगमरमर पत्थर की बनी है ।

अगर आप यहां आने के इच्छुक हैं तो आपके लिये यह जरूरी सूचना:-

मंदिर खुलने का समय

सुबह
4:15 am – 6:45 am
10:30 am – 1:30 pm
शाम
5:15 pm – 7:45 pm

उदयपुर आने के बाद आप यहां से टैक्सी,ऑटो, कैब,प्राइवेट व सार्वजनिक बस की मदद ले सकते हैं ।

हमें सब्सक्राइब करें !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!